‘लव जिहाद’ को लेकर कड़ा कानून बनाएगी शिवराज सरकार

शिवराज सरकार लव जिहाद के खिलाफ अगले विधानसभा सत्र में विधेयक लाने जा रही है. गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि अगले विधानसभा सत्र में लव जिहाद को लेकर विधेयक लाया जा रहा है. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि लव जिहाद में 5 साल के कठोर कारावास की सजा का प्रावधान रहेगा और ही गैर जमानती धाराओं में केस दर्ज होगा. साथ ही सहयोग करने वाला भी मुख्य आरोपी की तरह अपराधी होगा. गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अगर कोई शादी के लिए स्वेच्छा से धर्म परिवर्तन करता है तो उसके लिए एक महीने पहले कलेक्टर के यहां आवेदन करना अनिवार्य रहेगा.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इससे पहले भी लव जिहाद के खिलाफ बड़ा बयान दे चुके हैं और साफ कर दिया है कि मध्य प्रदेश में ऐसे मामले सामने आने पर उससे सख्ती से निपटा जाएगा और जल्द ही मध्य प्रदेश में लव जिहाद के खिलाफ कानून को प्रायौगिक जामा पहना दिया जाएगा. उन्होंने मंत्रालय में गृह विभाग की एक हाई लेवल मीटिंग के दौरान मंत्री और अफसरों के साथ यह तय किया था.

सीएम शिवराज सिंह के लव जिहाद पर कानून बनाए जाने के ऐलान के बाद मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर ने तो इस दिशा में एक कदम आगे बढ़ाते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर लव जिहाद कानून बनाने का प्रारूप मांगा. रामेश्वर शर्मा का कहना है कि जिस तरह से नाम बदलकर लड़की को धोखा दिया जाता है और फिर उसके साथ जो कुछ भी होता है ऐसे में जरूरी है कि देश भर में इसके लिए एक सा कानून बने.

रामेश्वर शर्मा ने बताया कि पिछले कई मामलों में ऐसा देखने में आया है कि एक राज्य में कानून के तहत अलग कार्रवाई होती है और दूसरे राज्य में अलग कार्रवाई होती है, इसीलिए मैंने योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है जिससे उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में एक जैसा कानून बन पाएगा. हालांकि जब प्रोटेम स्पीकर से पूछा कि संवैधानिक पद पर होने के बावजूद वो इस तरह के फैसले कैसे ले सकते हैं तो उन्होंने कहा कि ‘बेटियों की रक्षा करना भी एक कर्तव्य है जो संविधान में दिया है’.

महामारी कोरोना के एक साल पूरे, आज के दिन वुहान में मिला था पहला केस

वहीं नरोत्तम मिश्रा ने लव जिहाद पर विधानसभा में विधेयक लाने का बयान में यह स्पष्ट किया कि मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार लव जिहाद को लेकर कड़ा कानून बनाने जा रही है. जिसको लेकर विधि विशेषज्ञों से राय लेकर सरकार समाज के सभी वर्गों से इसको लेकर चर्चा भी कर रही है.

Related posts