EMI को लेकर अगले हफ्ते बड़ा फैसला ले सकती हैं RBI

नई दिल्ली : देश में चल रहे कोरोना संकट के बीच भारतीय रिजर्व बैंक एक अहम बैठक करने जा रहा हैं | जिसमे भारतीय रिज़र्व बैंक की बैठक में ब्याज दरों में बदलाव की उम्मीद नहीं हैं | एक रिपोर्ट के अनुमान में बताया गया है कि मौद्रिक नीति समिति की बैठक में ब्याज दरें स्थिर रखने पर फैसला हो सकता है | रिजर्व बैंक के गवर्नर की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति की तीन दिन की बैठक चार अगस्त को शुरू होगी और बैठक में लिए गए फैसले 6 अगस्त को घोषित किये जायेंगे |

ये भी पढ़ें : अब कोरोना के साथ जीने की डाले आदत, युवाओं को भी मौत का खतरा: WHO

अगस्त में रेपो रेट के घटने की उम्मीद कम-

SBI की रिपोर्ट-इकोरैप में कहा गया है कि हमारा मानना है कि अगस्त में रिजर्व बैंक दरों में कटौती नहीं करेगा | MPC की बैठक में इस बात पर चर्चा होगी कि मौजूदा परिस्थतियों में वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए और क्या गैर-परंपरागत उपाय किए जा सकते हैं | रिपोर्ट में कहा गया है कि फरवरी से रेपो दर में 1.15 प्रतिशत की कटौती हो चुकी है | बैंकों ने ग्राहकों को नए कर्ज पर इसमें से 0.72 प्रतिशत कटौती का लाभ दिया है | कुछ बड़े बैंकों ने तो 0.85 प्रतिशत तक का लाभ स्थानांतरित किया है |

ये भी पढ़ें : उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद की जयंती आज

वित्तीय बचत को प्रोत्साहन देने के लिए

रिपोर्ट कहती है कि इसकी वजह यह है रिजर्व बैंक ने नीतिगत उद्देश्यों को पाने के लिए आगे बढ़कर तरलता को एक माध्यम के रूप में इस्तेमाल किया | रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन के दौरान लोगों ने वित्तीय परिसंपत्तियां रखने को प्राथमिकता दी है | इससे देश में वित्तीय बचत को प्रोत्साहन मिला है | रिपोर्ट कहती है कि हमारा अनुमान है कि 2020-21 में वित्तीय बचत में इजाफा होगा | इसकी एक वजह लोगों द्वारा एहतियाती उपाय के तहत बचत करना भी है |

ये भी पढ़ें : कोरोना को रोकने के लिए योगी आदित्यनाथ ने दिए Serological Survey के आदेश

Related posts