गुरु ग्रंथ साहिब का 100 साल पुराना स्वरूप हुआ चोरी, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक ने जांच शुरू की

नई दिल्ली| गुरु ग्रंथ साहिब का 100 साल पुराना स्वरूप हुआ चोरी, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक ने जांच शुरू की पटियाला जिले के गांव कल्याण में स्थित गुरुद्वारा अरदासपुरा से गुरु ग्रंथ साहिब का 100 साल पुराना स्वरूप गायब हो जाने का मामला सामने आया है। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने इसका कड़ा संज्ञान लिया है। कमेटी के अध्यक्ष भाई गोविंद सिंह लौंगोवाल के दिशा-निर्देश पर पांच सदस्यीय टीम का गठन किया गया और सोमवार को यह टीम गुरुद्वारा अरदासपुरा पहुंची। टीम ने यहां करीब साढ़े 5 घंटे तक गुरुद्वारे की कमेटी के साथ मीटिंग की। अपने हिसाब से पूछ-पड़ताल के अलावा टीम ने मसले से जुड़े लोगों के बयान भी दर्ज किए। इस बारे में हेड ग्रंथी भाई प्रणाम सिंह ने बताया कि जांच-पड़ताल के दौरान सारे पक्षों के बयान कलमबद्ध किए गए हैं। इन्हीं बयानों के आधार पर टीम अपनी रिपोर्ट धर्म प्रचार कमेटी के सचिव भेजेगी। आगे की कार्रवाई उसी आधार पर की जाएगी। इस दौरान मैनेजर करनैल सिंह नाभा, एडिशनल मैनजर करनैल सिंह, धर्म प्रचार कमेटी की तरफ से परविंदर सिंह, लखविंदर सिंह और बेअंत सिंह आदि उपस्थित रहे। दूसरी तरफ गुरुद्वारे के मुख्य सेवादार बाबा निछावर सिंह ने बताया कि गुरुद्वारे में श्री गुरु ग्रंथ साहिब के 25 स्वरूप मौजूद हैं। इसके अलावा संत बाबा किरपाल सिंह के वक्त से एक पुरातन स्वरूप भी गुरुद्वारे में सुशोभित था। इसके संगत को दर्शन करवाए जाते थे।

 

Related posts